Showing posts with label Poem. Show all posts
Showing posts with label Poem. Show all posts

16/04/2014

किसी से कहना मत / Kisi Se Kehna Mat (NaMo)



अरविंद जी आपने तो कर दिया प्रूफ़ 
आप हैं सबसे बड़े पॉलिटिकल स्पूफ 

आप मेरी माने तो,

07/03/2014

उम्मीद का एक टुकड़ा / Umeed Ka Ek Tukda

Image Courtesy : Happy World
आज उम्मीद का एक टुकड़ा खा के देखिये तो सही,
आशा को निराशा से जीता के देखिये तो सही

21/02/2014

11/02/2014

Are Winners a Different Breed ?



The question asked by India Today #Conclave 14 Contest *  is what winning means to me ? 

At this juncture of my life, winning for me is to raise my daughter - our future generation with an ingrained belief that she is not a mimeSome of my reflections are penned down below.

The present holds the key to a brighter future .
Taken in Mathura, Feb 2013

04/02/2014

दादी बाबा तुम जल्दी आना / Dadi Baba Tum Jaldi Aana

आज से एक साल पहले
१६  फ़रवरी , २०१३ : मेरी और दादी बाबा की पहली रेल यात्रा,
राजधानी ट्रैन से दिल्ली। फिर वहाँ से मथुरा -पटना -दिल्ली-बैंगलोर हवाई । 
#Toddlers Tuesday


दादी तुम क्यूँ चली गई वापस अपने घर
मुझे यों अकेला छोड़ कर
सोना सोना करके गूंजता था इस घर का आँगन
अब सन्नाटे से फिर भर जायेगा ये अपार्टमेंट

अब कौन करेगा संग मेरे हंसी ठिठोली
कौन संवारेगा मेरे बाल और खेलेगा आँख मिचोली
कौन करेगा मेरे गुड्डे गुड़िया का ब्याह
अब किसकी ऐनक लेकर घुटने चल चली जाऊं मैं

कौन बैठेगा घंटो मुझे तकता हुआ
चाहें भोर हो या लगा हो रैन बसेरा
कौन बतायेगा दिनचर्या मेरी अब पापा को
फिर कौन कहेगा हो गई रात , अब रानी बेटी तू सो


दादी बाबा बस तुम्हारे ही बहाने ,